Home Astrology कैसे हुआ भगवान विष्णु के विनाशक अस्त्र का निर्माण?

कैसे हुआ भगवान विष्णु के विनाशक अस्त्र का निर्माण?

by Vishal Ghosh

भगवान श्री कृष्ण के पास अगर कोई सबसे शक्तिशाली हथियार था तो वो था उनका सुदर्शन चक्र। वे दुष्टों का संहार करने के लिए सुदर्शन चक्र चलाते थे, भगवान श्री कृष्ण ने सुदर्शन चक्र की प्राप्ति कैसे की इसकी कथा बहुत रोचक है। आइए जानते हैं इसके बारे में ……………..

chakra

भगवान श्री कृष्ण के पास कहां से आया सुदर्शन चक्र,

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, दैत्यों के अत्याचार से परेशान होकर देवताओं ने भगवान विष्णु से इनका संहार करने की प्रार्थना की।भगवान विष्णु देवताओं को लेकर भगवान शिव के पास कैलाश पर्वत पर पहुंचे और शिव की स्तुति की। भगवान विष्णु ने शिव का एक- एक नाम लेकर उन्हें प्रत्येक नाम के साथ एक कमल का फूल अर्पित किया और इस तरह विष्णु ने एक हजार कमल के फूल शिवजी पर चढ़ाए। भगवान विष्णु की परीक्षा लेने के लिए शिवजी ने इन फूलों में से एक फूल को छिपा दिया।

shree krishna

जब भगवान विष्णु ने फूलों की गिनती की तो उन्हें इसमें एक फूल कम मिला, उन्होंने फूल काफी ढूंढा लेकिन जब वो नहीं मिला तो विष्णु ने शिवजी को प्रसन्न करने के लिए कमल के फूल की जगह अपनी एक आंख निकालकर चढ़ाई। आंख इसलिए अर्पित की क्योंकि भगवान विष्णु के नयनों को कमल के समान बताया गया है और इसी कारण उन्हें कमल नयन कहा जाता है। यही सोचकर उन्होंने कमल की जगह कमल जैसी अपनी आंख शिवजी को अर्पित की ।

kamal

यह देखकर शिवजी प्रसन्न हुए और उन्होंने विष्णु जी से वरदान मांगने को कहा, विष्णु जी ने दैत्यों के विनाश के लिए एक अजेय अस्त्र मांगा। जिसके बाद भगवान शंकर ने विष्णु जी को सुदर्शन चक्र प्रदान किया। इस प्रकार सुदर्शन चक्र का निर्माण संहारकर्ता भगवान शिव ने किया था और निर्माण के बाद इसे भगवान विष्णु को सौंप दिया और जब भगवान विष्णु ने श्री कृष्ण के रूप में आठवां अवतार लिया तो ये उनके पास आ गया। सुदर्शन चक्र किसी भी चीज को खोजने के लिए सक्षम था और यह विनाशक अस्त्रों में से एक था।

bhawan vishnu

(इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)

Source: dailyhunt.in

You may also like

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More